मऊंहा झरे झंउहा-झंउहा – पुस्तक समीक्छा

अनिल जांगड़े गौंतरिहा के छत्तीसगढ़ी गीत के किताब महुंआ झरे झंउहा-झंउहा पढ़े बर मिलीस। पढ़के मन ला संतुष्टि मिलिस गीत म सबो परकार के रस के सवाद हवय। छत्तीसगढ़ी महतारी के सुग्घर बरनन अइसन बिखर गे हे। ओकर परती मन पियार अउ सरध्दा से झुक गे। पहिली गीत म कवि कहत रहिन- ‘सरग बराबर ये भुईया जिंहा बसे हे संत

Read more