अभी के समें अउ साहितकार

हमर देस ह संचार माध्यम के अतका बिकास करे ह हे जेकर बखान करना मुसकुल हे। संचार माध्यम म बिकास होय ले नुकसान जादा अउ फायदा कम दिखथे। मोबाइल अउ टीवी चैनल ह मनखे के जिनगी के रफ्तार ल बढादीस। मोबाइल आय ले चिट्ठी-पतरी लिखे बर मनखे भुलागे। इहां तक हमर साहित्य के छेत्र ह दिनोंदिन कमतियावत हे। आज के लइकामन […]

Continue reading »