नंदागे

नंदागे आते सुघ्घर गांव नंदागे बर पिपर के छाव नंदागे माया पिरित ला सब भूला के सुनता के मोर गांव नंदागे भउरा बाटी गुल्ली डंडा घर घुधिया के खेल नंदागे किसानी के दवरी नंदागे अउ नंदागे कलारी जान लेवा मोटर-गाडी नंदागे बइला गाडी आमा के अथान नंदागे नंदागे अमली के लाटा अंजोर करइया चिमनी नदागे अउ नंदागे कंडिल पाव के पन्ही नंदागे आगे हाबे सेंडिल देहे के अंग रक्खा नदागे अउ नंदागे धोती बरी के बनइया नंदागे होगे येति ओति किसान के खुमरी नंदागे अउ नंदागे पगडी घर के चुल्हा…

पूरा पढ़व ..

किसानी अपन करथो

सुत उठ बडे बिहनिया करम अपन करथो भुइंया के लागा छुटे बर म्हिनत मेहा करथो खुन पसिना ले सिच के धरती हरियर करथो मे किसान अव संगी किसानी अपन करथो जग ला देथो खाए बर मे घमण्ड चिटको नइ तो करो नइ रहाव ऐसो अराम मे महिनत करथो इमान ले छल नइ हे मोर मे नइ हे कपट महिनत हाबे मोर धरम भगवान नो हरो धरती के मइनखे मे हा हरो जानो मोर महिनत ला बस अतनि दया करो बासी पेज खा के जिनगी अपन जि थो किसान अव संगी…

पूरा पढ़व ..