छत्तीसगढ़ी भूल भूलैया

समर्पन धमधा के हेडमास्टर पं. भीषमलाल जी मिसिर महराज के सेवा मा :- लवनी तुहंला है भूलभुलैया नींचट प्यारा। लेवा महराजा येला अब स्वीकारा।। भगवान भगत के पूजा फूल के साही। भीलनी भील के कंद मूल के साही।। निरधनी सुदामा के ओ चाउर साही। सबरी के पक्का 2 बोइर साही।। कुछ उना गुना झन हाथ अपन पसारां लेवा महराजा, येला […]

Continue reading »

पंडित शुकलाल पाण्डेय : छत्तीसगढ़ गौरव

हमर देस ये हमर देस छत्‍तीसगढ़ आगू रहिस जगत सिरमौर। दक्खिन कौसल नांव रहिस है मुलुक मुलुक मां सोर। रामचंद सीता अउ लछिमन, पिता हुकुम से बिहरिन बन बन। हमर देस मां आ तीनों झन, रतनपुर के रामटेकरी मां करे रहिन है ठौर।। घुमिन इहां औ ऐती ओती, फैलिय पद रज चारो कोती। यही हमर बढ़िया है बपौती, आ देवता […]

Continue reading »