मोर छइयां भुइयां के माटी

मोर छइयां भुइयां के माटी रे संगी महर.महर ममहाथे न, गंगाजल कस पावन धारा महानदी ह बोहाथे न । मोर छइयां भुइयां के माटी रे संगी महर.महर ममहाथे न ।। धान कटोरा हे मोर भुइयां ये हीरा मोती उगलथे रे, अरपा, पैरी, सोंढूर, शिवनाथ एकर कोरा म पलथे रे । अछरा जेकर हरियर-हरियर मया इहां पलपलाथे न, मोर छइयां भुइयां के माटी रे संगी महर महर ममहाथे न ।। मैनपाट जस शिमला लागे कश्मीर जस चैतुरगढ़ सोहे, प्रयागराज जस राजीव लोचन भोरमदेव हर मन ल मोहे । डोंगरगढ़ म माता…

पूरा पढ़व ..

सोमदत्त यादव के कविता

गांव-गांव म जनमानस के आँखी खोलईया आँधी के जरुरत हे, आज फेर मोर देश ल महात्मा गाँधी के जरुरत हे । कोन कइथे,आज हम आजाद हन ? हम तो भीतर-बाहिर सफा कोती बर्बाद हन आज फिर से हमला आजादी के जरुरत हे ,, आज फेर मोर देश ल महात्मा गाँधी के जरुरत हे ।। भीतर म नक्सली,बाहिर म आतंकी देश म आज दहशत हे, सोन चिरईया हरियर भुइयां लाल लहू ले लतपथ हे। सत्य ,अहिंसा,दया,प्रेम इत्यादि के जरुरत हे,, आज फेर मोर देश ल महात्मा गाँधी के जरुरत हे ।।…

पूरा पढ़व ..