सुन तो भईरी

अई सुनत हस का भईरी, बड़े बड़े बम फटाका फुटीस हे I येदे नेता मन के भासन सुनके कुकुर मन बिकट हाँव हाँव भूकिस हे I पंडरा ह करिया ल देखके, मुंहूँ ल फूलोलिस I कीथे मोर अंगना में काबर हमाये, आय हाबै चुनई त, खरतरिहा बन बड़ रुवाप दिखायेस I सिधवा कपसे बईठे रिहिस, कीथे, मिही तांव मुरख अगियानी, तुहीमन तांव ईहाँ के गियानी धानी I मंद के मरम ल में का जानव, तलुवा चाटे के काम हाबै मोर पुरानी I कोन जनी काय पाप करे रेहेंव, चारों खूंट…

Read More

अईसने चुनई आथे का

अईसने चुनई आथे का नकटा ह नाचथे, अऊ बेशरम ताल मिलाथे। लाज नीं लागय कोनों ल, कूटहा ल संगे संग घुमाथे। देख तो संगी अईसने चुनई आथे का! मद अऊ मऊहा के हिसाब, करमछड़हा मन बईठ जमाथे। कुकरी बोकरा के रार मचाथे, उछरत बोकरत मनखे चिल्लाथे। देख तो संगी अईसने चुनई आथे का! गाड़ी मोटर फटफटी, जो गांवें गाँव दऊड़ाथे। धरम के ठेकेदार मन घलो, घरों घर खुसर आरों लगाथेI देख तो संगी अईसने चुनई आथे का! मीठ मीठ गोठिया के कीथे, बासी बड़ सुहाथे । वादा उपर वादा करके,…

Read More