मोर गाँव के सुरता आथे

कांसा के थारी असन तरिया डबरी, सुघ्घर रूख राई, पीपर,बर अऊ बंभरी I खेत खार हरियर हरियर लहलहाय, मेड़ में बईठ कमिया ददरिया गाय I बारी बखरी में नार ह घपटे, कुंदरू,करेला,तरोई झाके सपटके I चारों मुड़ा हे मंदिर देवालय, बीच बस्ती में महमाया ह दमकय I होत बिहनिया गरवा ढीलाय, कुआं पार मोटियारी सकलाय I हंसी ठिठोली करत पानी […]

Continue reading »

छत्तीसगढ़िया जागव जी

छत्तीसगढ़िया बघवा मन काबर सियान होगेव, नवा नवा गीदड़ मन ल देखव जवान होगे। भुकर भुकर के खात किंजरत, बाहिरी हरहा मन आके ईहाँ पहलवान होगे। सेठ साहूकार मन फुन्नागे, अजगर कस ठेकेदार मोटागे। अंगरा आगी में किसान भुन्जात, दाई ल नोनी के पोसई जीव के काल होगे। मुरहा के अब दिन बिसरगे, करमछड़हा उछरत जात हे। मिहनत करैईया अंगाकर […]

Continue reading »
1 2 3 8