आगे कुँवार

आगे कुँवार महीना दाई, सुग्घर जोत जलाबो वो। नौ दिन नौ रतिहा दाई, तोर सेवा ला गाबो वो।। नवरात्रि नव कलसा साजे, सुग्घर लहरावय जंवारा वो। मेला उमंग अउ उत्साह हे, गाँव -गाँव अउ पारा वो।। शक्ति काली दुर्गा भवानी, आनी-बानी नाम कहाय। अब्बड़ शक्ति तोर वो दाई, भगत के तै करे सहाय।। महामाई रतनपुर वाली, सम्बलपुर के समलाई वो। हाथ जोड़ विनती करव तोर, जय डोंगरगढ़ बमलाई वो।। युवराज वर्मा बरगड़ा (साजा)

पूरा पढ़व ..

तोर बोली कोयली जइसन हे

तोर बोली कोयली जइसन हे। रेंगना डिट्टो मोना जइसन हे। का बताँव मोर मयारू, तोर आँखी मिरगीन जइसन हे। बेनी गथाय करिया करिया, दिखत घटा बादर जइसन हे। तोर गाल हा मोर जोहि, सिरतो गुलगुल भजिया जइसन हे। तोर ओंठ के लाली हा गोरी, लाल गुलाब जइसन हे। तोर कतका करँव बखान जँवारा, रूप हा राधा रानी जइसन हे।। युवराज वर्मा “बरगड़िया” साजा बेमेतरा 9131340315

पूरा पढ़व ..