देवारी तिहार आवत हे

हरियर हरियर लुगरा पहिरके
दाई बहिनी मन नाचत हे
आरा पारा खोर गली मोहल्ला
सुवा गीत ल गावत हे

सुग्हर संदेश के नेवता देवत
देवारी तिहार आवत हे
घर अंगना कोठा कुरिया
पेरौवसी माटी म छबावत हे

जाला जक्कड़ खोंदरा कुरिया
निसैईनी चड़के झटावत हे
लाली सफेद पिंवरी छुही
घर अंगना ल लिपावत हे

कोल्लर कोल्लर माटी लाके
गईरी माटी ल मतावत हे
ओदरे खोदरे भाड़ी ल
चिक्कन चिक्कन चिकनावत हे

घर मुहाटी के तुलसी चउंरा
मारबल पथरा म बनावत हे
खिड़की फुल्ली कपाट चौखट
रंग रंगके कलर म पोतावत हे

पिंवरी छुही महर महर
चारो खुंट म ममहावत हे
सुरहिन गईया के गोबर म
अंगना ल खुंटियावत हे

गउं माता बर राउत भैया
सुग्हर सोहई ल बनावत हे
रंग रंगके मंजुर पिक
कउंड़ी माला ल सजावत हे

करसा,कलौरी,ग्वालिन,दीया
गांव म बेचाय बर आवत हे
कुमड़ा कोचई सुपा डलिया
खिचरी खवाए बर बिसावत हे

जिंस टीशर्ट कपड़ा लत्ता
लईका मन लेवावत हे
सुरसुरी चकरी बम आनारदाना
फटाखा बाजार म बेचावत हे

लईका मनके नखरा अब्बड़
बड़े फटाखा म अंगरी ल देखावत हे
सुग्हर संदेश के नेवता देवत
देवारी तिहार आवत हे!!

*✍मयारुक छत्तीसगढ़िया*
सोनु नेताम माया
रुद्री नवागांव धमतरी


गुरतुर गोठ म प्रकाशित सोनु नेताम माया के रचना मन के कड़ी



Currently you have JavaScript disabled. In order to post comments, please make sure JavaScript and Cookies are enabled, and reload the page. Click here for instructions on how to enable JavaScript in your browser.