सोच समझ के देहू वोट

अपन हिरदे के सुनव गोठ।
सोच समझ के देहू वोट।

जीत के जब आथे नेता मन,
पथरा लहुट जाथे नेता मन.
चिन्हव इँखर नियत के खोट।
सोच समझ के संगी देहू वोट।-1

चारों खूँट सवारथ के अँधियार हे.
लालच के हथियार तियार हे.
दारु-कुकरा, धोती-लुगरा,नोट।
सोच समझ के देहू वोट।-2

वोट माँगत ले नेता सिधवा हे,
मरे ल मारे बर येहा गिधवा हे.
मउका हे ठउका मारव चोट।
सोच समझ के देहू वोट।-3

बुढ़वा रेंगव. चलव जवान.
खच्चित करव तुमन मतदान.
धरम-करम नइ होवय रोज।
सुनव अपन हिरदे के गोठ।
सोच समझ के देहू वोट।-4

कन्हैया साहू “अमित”
शिक्षक-भाटापारा (छ.ग)

संघरा-मिंझरा

Leave a Comment